Social issues

58 Posts

88 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 21420 postid : 1135770

शनि शिंगणापुर विवाद

Posted On: 30 Jan, 2016 Junction Forum में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

महाराष्ट्र के अहमदनगर स्थित शनि शिंगणापुर में शनि चबूतरे पर चढ़ कर शिला पर तेल चढ़ाना महिलाओं के लिए प्रतिबंधित है I इस प्रतिबन्ध के विरोध में आवाज़ उठाई जा रही हैI इसी तरह से मुंबई में स्थित हाजी अली के दरगाह में प्रवेश पर प्रतिबंध के खिलाफ महिला संगठनो ने आंदोलन शुरू कर दिया है Iक्या यह नारी शशक्तिकरण है ? क्या ये आंदोलन नारी शशक्तिकरण के लिए अभियान हैं ? या फिर क्या इसके द्वारा भी राजनीतिज्ञ कुछ हित लाभ तलाश रहे हैं ?
शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानन्द जी के अनुसार शनि ग्रह है देवता नहीं है I इस लोजिक से तो चन्द्रमा प्रथ्वी का उपग्रह है और महिलाओं को करवाचौथ वाले दिन भूखे प्यासे रहकर चन्द्रमा को अर्घ नहीं देना चाहिएI ज्योतिषाचार्य शनि को क्रूर ग्रह कहते हैं व उनकी सीधी और वक्री द्रष्टि के प्रभाव से बचने के लिए विभिन्न कर्म काण्ड बताते हैं उनमें से एक शनि शिला पर तेल चढ़ाना भी है I क्या इस क्रूर ग्रह के प्रभाव से महिलाएं मुक्त हैं ? शनि को न्याय का देवता भी कहा जाता है और मानव को उसके बुरे कर्मों का दंड देने वाला देवता भी कहा जाता है I क्या शनि की अदालत में महिलाओं के विरुद्ध वाद दायर नहीं होता ? यदि होता है तो उन्हें भी न्याय की भीख मांगने से रोकना अन्याय है I
मैं कुछ ऐसे शंकर जी के मंदिरों को जानता हूँ जहाँ पर शिवलिंग के पास जाकर महिलाओं के द्वारा पूजा अर्चना वर्जित है लेकिन विशेष अवसरों जैसे सावन माह के चारों सोमवार पर व शिवरात्रि जैसे अवसरों पर महिलाएं पूजा अर्चना कर सकती हैं I इस तरह के प्रतिबंधों के लिए किसी के पास कोई भी तर्कसंगत जवाब नहीं है I शिवजी तो देवों के देव महादेव हैं फिर ऐसे प्रतिबन्ध क्यों ? अभी मुस्लिम महिला संगठन की किसी सदस्या ने पत्रकारवार्ता में कहा की महिलाएं इतनी समझदार हैं कि वो स्वयं ही पाक होंगी तभी दरगाह में प्रवेश करेंगी I क्या रजस्वला स्त्री नापाक होती है ? क्या रजस्वला होना प्राकृतिक प्रक्रिया नहीं है ? हाँ ठीक है पहले रजस्वला होने पर महिलाओं को घर में खाना बनाने तक से मुक्ति दे दी जाती थी तथा उन्हें भूमि शयन के लिए मजबूर किया जाता था I अब तो महिलाओं को घर से लेकर बाहर तक के कार्य करने होते हैं आज कोई भी उनसे किसी भी परेशानी जैसे हल्का बुखार आदि की भी बात नहीं पूछता कारण साथ में रहने वाले समस्त परिवार के सदस्यों की दिनचर्या वाधित हो जायेगी I क्या घर बाहर व परिवार सबकी जिम्मेदारी संभाल कर महिलायें अपने पैरों पर स्वयं कुल्हाड़ी मार रही हैं या कोई दंड स्वेच्छा से भुगत रही हैं ?
पूजा अर्चना करना महिलाओं का पुरषों के बरावर अधिकार है इसे कोई भी धर्म प्रतिबंधित नहीं करता I प्रतिबन्ध कुतसित विचारों वाला पुरुष समाज लगता है I जिसे धर्मग्रंथो के आधार पर प्रमाणित करने का प्रयास करता है Iजिनसे सामान्यजन अनभिज्ञ है और धर्मगुरु व ज्योतिषाचार्य धर्मग्रंथों व शास्त्रों को व्याख्यित करके भगवान व धर्म के नाम पर डराते धमकाते रहते हैंI भगवान ने तो मानव की रचना “स्त्री और पुरुष” एक इकाई के रूप में की जो एक दूसरे के बिना अधूरे हैं I भगवान शिव पुरुष हैं तो माता पार्वती प्रकृति I फिर प्रकृति पर प्रतिबन्ध कैसे और क्यों ?



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

4 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

jlsingh के द्वारा
February 1, 2016

आदरणीय अतुल जी, आपके विचार वैज्ञानिक और तर्क-संगत हैं. महिलाओं के साथ बराबरी का दम्भ हम जरूर भरते हैं पर पुरुष प्रधान समाज उन्हें स्वयं से नीचे ही रखना चाहता है … वैसे सियासत और प्रसिद्धि के लिए भी ये हथकंडे अपनाये जाते हैं… अब तो भगवन राम पर भी मुक़दमा हो गया है क्योंकि उन्होंने अपनी निर्दोष पत्नी को घर से बाहर जंगल में छोड़ा था. देखते चलिए और अपना पक्ष रखते रहिये. सादर!

atul61 के द्वारा
February 2, 2016

आदरणीय जवाहर लाल जी सादर प्रणाम I बिलकुल सही कहा आपने बहुत सारे आंदोलन प्रसिद्धी पाने व सियासत के लिए किये जाते हैं

एल.एस. बिष्ट् के द्वारा
February 2, 2016

अतुल जी, सादर अभिवादन । वैसे धर्म या कर्म कांड के नाम पर महिलाओं के साथ भेदभाव को उचित नही माना जा सकता । लेकिन सवाल यहां यह भी है कि यही महिलाएं विग़्य़ापनों के माध्यम से महिलाओं दवारा परोसी जा रही अश्लीलता के विरूध्द कुछ नही बोल रहीं । फिल्मों मे भी महिलाएं हद दरजे का देह प्रदर्शन कर रही हैं और यह सब पैसों व शोहरत के लिए । यहां ‘ हल्ला बोल ” नही हो रहा । सिर्फ आस्था के सवालों पर ही सवाल उठा कर यह किस सशक्तिकरण की वकालत कर रही हैं । दर-असल वोट की राजनीति के तहत भी महिला जाप को बढावा दिया जा रहा है । यह सशक्तिकरण सिर्फ शहरों तक सीमित है । गांव कस्बों की महिलाओं पर तो यह महिला संगठन और झंडाबरदार बिल्कुल खामोश हैं । जहां इसकी सबसे ज्यादा जरूरत है।

atul61 के द्वारा
February 3, 2016

बिलकुल ठीक कह रहे हैं आदरणीय विष्ट जी I शशक्तिकरण के नाम पर वोट की राजनीती हो रही है जो सशक्त हो गयी हैं वो आरथिक लाभ के लिए सामाजिक मूल्यों को तिलांजलि दे रही हैंI कहीं पर नारी का मानसिक , दैहिक व आरथिक शोषण हो रहा है तो कुछ धन व प्रसिद्धी के लिए किसी भी स्तर तक जाने के लिए तैयार हैं Iसमाज को आर्थिक विकास के अलावा बौद्धिक व नैतिक विकास की जरूरत है I सादर अभिवादन


topic of the week



latest from jagran