Social issues

58 Posts

88 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 21420 postid : 1125445

संसद सत्र या राजनेतिक भ्रस्टाचारियों का सम्मेलन

Posted On: 25 Dec, 2015 Junction Forum में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

संसद सत्र या राजनेतिक भ्रस्टाचारियों का सम्मेलन
संसद का शीतकालीन सत्र यानि राजनेतिक भ्रस्टाचारियों का सम्मेलन समाप्त I एक बार फिर देशहित में सार्थक चर्चा करने वाला मंच राजनैतिक लाभ उठाने के उद्देश्य से हंगामा करने वालों का केंद्र दिखाई दिया I बिडम्बना ये रही की बहुत सारे बिल राज्यसभा ने बिना किसी चर्चा के पास कर दिये व माननीय वित्त मंत्री अरुण जेटली के विरुद्ध DDCA में हुए भ्रस्टाचार के मामले में संसद में CBI इन्कुआरी कराने की मांग भाजापा सांसद कीर्ति आजाद जी के द्वारा की गयी I जिसे पार्टी विरोध की संज्ञा देते हुए अनुशाशानाताम्क कार्यवाही कर दी और पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निलंबित कर दिया I अपना अपना वर्चस्व स्थापित करने में लगे राजनेता राष्ट्रीय हितों के प्रति क्यों उदासीन हैं ?जागरुक मतदाता के लिए एक सवाल है कि भ्रस्टाचार के मुद्दे को जाग्रत कर चुनाव जीतने वाली भाजापा आज अपने ही सांसद को दण्डित कर रही है ? क्या भ्रसटाचार की परिभाषा अपनी पार्टी और विपक्षी पार्टी के लिए संविधान में अलग – अलग लिखी गयी है ? दो विपरीत आचरण एक तब जन माननीय प्रधानमंत्री अटलबिहारी वाजपेयी जी के मना करने के उपरांत भी माननीय लाल कृषण अडवानी जी ने हवाला के अंतर्गत लिप्त होने का आरोप लगते ही अपने पद से इस्तीफा दे दिया था I दूसरा यह कि माननीय मोदी जी जेटली जी के अडवानी जी की तरह आरोप से मुक्त हो जाने की बात तो कर रहे हैं परन्तु उन्हें अडवानी जी के नकशे कदम पर चलने की सलाह भी नहीं दे रहे I क्या भाजापा भी कांग्रेस के पद चिन्हों का अनुसरण कर रही है ? माननीय इंदिरा गाँधी जी ने सत्ता के केंद्र में बने रहने के लिए विरोध में उठे स्वरों को दबाने का कार्य शुरू किया था I क्या भाजापा भी विरोध करने वाले राजनेताओं का मुँह बंद करना शुरू कर रही है ?
आज का राजनैतिक माहोल यह बता रहा है कि कोई भी इंदिरा गाँधी जी जैसा सशक्त नेता नहीं है और निकट समय में लोक सभा और राज्य सभा में एक ही राजनैतिक दल का बहुमत होने की आशा भी नहीं है I संविधान में भारत को सेक्युलर राष्ट्र कहा गया है और भाजापा राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ की विचार धारा से प्रभावित है और वो हिन्दू राष्ट्र की अवधारणा से दूरी बनाती नहीं दिखाई देती Iजिस कारण से ही कट्टर हिंदूवादी संगठन भाजपा के रास्ते में रोड़े अटकाते रहते हैं I
राष्ट्र हित में विद्वानों ने बहस जारी कर दी है कि उच्च सदन राज्यसभा के अधिकार सीमित कर दिये जायें I कुछ लोग सयुंक्त सदन की मीटिंग के पक्षधर हैं I कुछ लोग संविधान में संशोधन कर राज्य सभा का अस्तित्व ख़त्म करने की सलाह दे रहे हैंI राष्ट्र हित में चिंतित हैं सभी I पर ये कोई भी कार्य राजनेताओं की सहमति के बिना देश में संभव नहीं I जरूरत है मतदाताओं के जागरुक होने की, प्रत्याशी के गुण दोष के आधार पर निष्पक्ष मतदान करने की I जब भी सांसद/विधायक क्षेत्र में आये तो राजनैतिक भ्रस्टाचार पर उनसे जवाब मांगे I



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

6 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

rameshagarwal के द्वारा
December 26, 2015

जय श्री राम अतुलजी आप के विचार से सहमत नहीं किसी भी पार्टी में पार्टी के खिलाफ खुले आम बोलना अनुशासनहीनता होती है क्यों नहीं पार्टी के अन्दर मामला उठाया ऐसे ही यदि आरोपों के आधार पर इस्तीफ़ा लिया जाने लगा तो फिर पूरा मंत्रिमंडल चला जाएगा क्योंकि विरोधियो का काम आरोप लगाना है जब मामला अदालत में है क्यों नहीं इंतज़ार करते सेक्युलर ब्रिगेड हार से तिलमिला गया इसलिए विकास रोकने के लिए संसद रोक रहा ब्रिटेन इटली की तरह राज्य सभा की शक्तियां कम कर देनी चाइये जिसके लिए जनता को जागरूक करना है बीजेपी ने कीर्ति आजाद को निलंबित कर के टीक किया ये सब पद के लालची है लेख के लिए आभार  

atul61 के द्वारा
December 26, 2015

जय श्री राम रमेश जी I पार्टी में भ्रस्टाचार के मुद्दे पर बोलना होगा I देश की किसी भी संस्था में भ्रस्टाचार के मुद्दे पर संसद में नहीं बोलेगा तो उसे जो जनसमर्थन चुनाव में प्राप्त हुआ है उसका अपमान होगा I जेटली जी तो चुनाव हारे हुए कैंडिडेट हैं जिन्हें बेक डोर अर्थात राज्य सभा से लेकर वित्त मंत्रालय दिया गया I आज आम मतदाता सवाल करता है कि जो व्यक्ति जनता के द्वारा चुना नहीं गया उसे जिम्मेदार पद पर आसीन क्यों और कैसे किया जाता है I वाकई में राज्य सभा के लिए चुने जाने वाले व्यक्तियों के लिए आदर्श निर्धारित किया जाना चाहिए

sadguruji के द्वारा
December 29, 2015

“आज का राजनैतिक माहोल यह बता रहा है कि कोई भी इंदिरा गाँधी जी जैसा सशक्त नेता नहीं है और निकट समय में लोक सभा और राज्य सभा में एक ही राजनैतिक दल का बहुमत होने की आशा भी नहीं है I संविधान में भारत को सेक्युलर राष्ट्र कहा गया है और भाजापा राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ की विचार धारा से प्रभावित है और वो हिन्दू राष्ट्र की अवधारणा से दूरी बनाती नहीं दिखाई देती Iजिस कारण से ही कट्टर हिंदूवादी संगठन भाजपा के रास्ते में रोड़े अटकाते रहते हैं I” आदरणीय अतुल जी ! सहमत हूँ आपसे ! बहुत अच्छा लेख ! नववर्ष की बधाई !

atul61 के द्वारा
December 29, 2015

लेख की सराहना के लिए सादर धन्यवाद I आपको भी नववर्ष की हार्दिक वधाई

Shobha के द्वारा
December 30, 2015

श्री अतुल जी वास्तव में संसद मजाक बन कर रह गई है अपने ही दल के खिलाफ संसद में प्रश्न उठाना कीर्ति आजाद का कार्य सही नहीं था यह प्रश्न अपने दल की बैठकों में उठाये जाते हैबहुत अच्छा लेख

atul61 के द्वारा
December 31, 2015

शोभाजी सादर अभिवादनIकीर्ति आजाद का प्राथमिक सदस्यात से निलंबन अत्यधिक कठोर व भ्रस्टाचार के खिलाफ दोहरी नीति दिखाता है I लेख की सराहना के लिए धन्यवाद


topic of the week



latest from jagran